नोएडा। भारतीय सनातन संस्कृति व हिंदुत्व के मुद्दे पर हमेशा मुखर रहने वाले हिन्दू राष्ट्र सेना के संस्थापक एवं राष्ट्रीय अध्यक्ष धनंजय देसाई ने कहा कि संनातन धर्म में साधुओं का सम्मान किए बगैर हिंदुत्व नहीं हो सकता। हिंदू संतों पर लगातार हमले हो रहे हैं। आसाराम बापू पर लांछन लगाया जा रहा है, जिससे ना केवल भारतीय संस्कृति, भारतीय जीवन और सनातन धर्म पर भी लांछन लगाया जा रहा है।

सेक्टर-29 स्थित नोएडा मीडिया क्लब में रविवार को आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस में धनंजय देसाई ने कहा कि संत परंपरा की धरोहर की रक्षा करना हमारे कुलाचार में शामिल है। सनातन धर्म हमारे कुल की मर्यादा में है। उस सनातन धर्म के साधुओं का सम्मान हिंदू धर्म का फर्ज है। उन्होंने कहा कि आसाराम बापू को ये चीज सहते हुए 9 वर्ष दो माह हो गए हैं। मैं न तो आसाराम बापू से कभी मिला हूं और न ही मैंने उनसे दीक्षा ली है, लेकिन उनको छुड़वाना और राष्ट्र की सुरक्षा करना हमारे कुल का दायित्व है। ये लड़ाई बापू अकेले नहीं लड़ रहे हैं। ये हम सबकी लड़ाई है। 85 वर्ष की उम्र और स्वास्थ्य खराब होने के बावजूद उन्हें न तो बेल मिल रही है और न ही पैरोल दी जा रही है। यह अन्याय की श्रेणी में आता है।