नोएडा। एमिटी इंटरनेशनल स्कूल, वृदांवन योजना, लखनऊ की कक्षा 10 की छात्रा कायनात आरिफ ने आजादी के 75 साल के उपलक्ष्य पर आयोजित ‘युवा-युवा लेखकों को परामर्श हेतु प्रधानमंत्री की राष्ट्रीय योजनाÓ में लेखकों की सूची में शामिल होकर हम सबको गौरवांवित किया है।

कायनात आरिफ ने कहा कि इस योजना की जानकारी स्कूल के शिक्षकों द्वारा प्राप्त हुई और प्रतियोगिता में भारतीय राष्ट्रीय संघर्ष की कहानियों पर अधिकतम 5000 शब्दों की हस्तलिपि मांगी गई थी। उन्होंने बताया कि उनके द्वारा 3000 शब्दों की प्रविष्टि में एक ग्यारह वर्षीय वेटर की ऑंखों के माध्यम से लॉर्ड हार्डिंग की हत्या के प्रयास की पुन:कल्पना की गई। हस्तलिपि का शीर्षक ‘द टार्सियरÓ रखा गया और जिसका मुख्य चरित्र और उसके नाम दक्षिणपूर्व एशियाई प्राइमेंट के नाम पर रखा गया है। इस योजना के तहत पूरे 23 भाषाओं में 16000 प्रविष्टियां प्राप्त हुईं और 75 लेखकों के चयन करने से पूर्व तीन स्तर पर स्क्रीनिंग की गई। उन 75 में से 15 साल के दो लोग चुने गये हैं, जिनमें वह खुद भी शामिल रहीं।

एमिटी विद्यालय समूह की चेयरपर्सन डा. अमिता चौहान ने कहा कि किसी भी छात्र के संर्पूण विकास के लिए आवश्यक है कि उसे कक्षा के अंदर और बाहर दोनों स्तरों पर प्रशिक्षित किया जाये और समान अवसर प्रदान किये जायें। कायनात ने जिस मुकाम को हासिल किया है, वो उनके उज्ज्वल भविष्य का परिचायक है।

स्कूल की प्रधानाचार्य साक्षी गौतम मिश्रा ने कहा कि एमिटी छात्रों के संपूर्ण विकास के लिए प्रतिबद्ध है और सदैव कोशिश रहती है कि छात्र की प्रतिभा को उभरने के उत्साहवर्धन किया जाये।