– देश विदेश से 700 अधिक प्रतिभागियों ने लिया हिस्सा

नोएडा। छात्रों को संयुक्त राष्ट्र के कार्यों की जानकारी देने के लिए एमिटी विश्वविद्यालय की ओर से 11वें एमिटी इंटरनेशनल मॉडल यूनाइटेड नेशंस (एएमआईएमयूएन 2022) सम्मेलन का आयोजन किया गया। ‘दृढ़ता सभी पर विजय प्राप्त करती हैÓ विषय पर आधारित ऑनलाइन कार्यक्रम का शुभांरभ भारत में संयुक्त राष्ट्र जनसंख्या कोष के प्रतिनिधि और भूटान के देशीय निदेशक श्रीराम हरिदास, भारत में पेरू दूतावास के प्रथम सेक्रेटरी फाबियो सुबिया डायज, इरान दूतावास के डिप्टी चीफ ऑफ मिशन मसूद रेजवानियन राहघिक, सेवानिवृत्त राजदूत विष्णु प्रकाश, सेवानिवृत्त राजदूत स्कंद रंजन तायल और एमिटी विश्वविद्यालय की वाइस चांसलर डॉ. (श्रीमती) बलविंदर शुक्ला ने किया। कार्यक्रम में देश विदेश से लगभग 700 प्रतिनिधि हिस्सा ले रहे हैं।

एएमआईएमयूएन 2022 कार्यक्रम के अंर्तगत अपने प्रतिभगियों के समग्र विकास, उनमें नेतृत्व, संचार, वाद विवाद सहित व्यक्तिगत, संगठनात्मक और समूह कार्य पर विभिन्न कौशलों को विकसित करने के लिए मंच प्रदान किया जा रहा है। कार्यक्रम में विभिन्न कमेटियां जैसे युनाईटेड नेशंस ह्यूमन राइट कांउसिल, युनाइटेड नेशंस जनरल एसेंबली-2, युनाईटेड नेशंनस सिक्योरिटी कांउसिल, युनाईटेड नेशंस डेवलपमेंट प्रोग्राम, युनाईटेड नेशंनस फ्रेमवर्क कनवेंशन ऑन क्लाइमेट चेंज, युनाईटेड नेशंनस कमीशन ऑन स्टेटस ऑफ वूमेन, विश्व स्वास्थय संगठन, इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टीस, नीति आयोग है, जिसमें छात्र हिस्सा लेकर अपनी बात रखेंगे। कार्यक्रम में अमेरिका के टेक्सास विश्वविद्यालय, राइस यूनिवर्सिटी, इंग्लैंड की बर्मिघम सिटी यूनिवर्सिटी, यूनिवर्सिटी ऑफ वोल्वर हाम्पटन, कनाडा की यूनिवर्सिटी ऑफ वाटरलू, घाना की यूनिवर्सिटी ऑफ प्रोफेशनल स्टडीज, श्रीलंका के इंस्टीटयूट ऑफ केमेस्ट्री, रशिया के मॉस्को स्टेट यूनिवर्सिटी सहित कई अन्य देशों के अलावा भारत की बीएचयू, अब्दुल कलाम टेक्नीकल विश्वविद्यालय आदि के प्रतिनिधि हिस्सा ले रहे हैं।

जनसंख्या कोष के प्रतिनिधि और भूटान के देशीय निदेशक हरिदास ने अनुभवों का साझा करते हुए कहा कि उन्होंने कई देशों में कार्य किया है। उनकी इस यात्रा ने उन्हें सीखने, आत्मनिर्भरता और दृढ़ता को विकसित करने में काफी सहायता की। उन्होंने श्रीलंका, अफगानिस्तान, सूडान और भारत के किये गये कार्यों के बाबत कहा कि आज भारत विश्व में एक प्रमुख स्थान रखता है और स्वास्थ्य सहित लैंगिकरण जैसे एजेंडे को पूर्ण करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। महामारी के दौरान भी हजारों महिलाओं और लड़कियों ने स्वयं को सबित किया है।

भारत में पेरू दूतावास के प्रथम सेक्रेटरी फाबियो सुबिया डायज ने कहा कि महामारी के दौरान पिछले कुछ समय से नये वैश्विक चुनौतीयां बढ़ी हैं, जिसके लिए देशों को आगे आना होगा और मिलकर उनका निवारण करना होगा। उन्होंने प्रतिभागियों से कहा कि एमिटी इंटरनेशनल मॉडल यूनाईटेड नेशंस सम्मेलन आपको अद्वितीय अवसर प्रदान कर रहा है। आपको स्वंय को मजबूत बना कर अन्य लोगों की सहायता करनी चाहिए।

ईरान दूतावास के डिप्टी चीफ ऑफ मिशन मसूद रेजवानियन राहघिक ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र में कार्य करने के लिए आपको राजनैतिक जानकारी, ज्ञानपूर्ण और समूह में कार्य करने की जानकारी होना आवश्यक है। इसके अतिरिक्त जिस देश का प्रतिनिधित्व कर रहे है उसकी आवश्यकताएं, सुरक्षा, स्थापना, सहित संयुक्त राष्ट्र की संरचना, विभिन्न एजेंसियों के साथ तालमेल और कार्य करने के तरीकों को जानना आवश्यक है। श्री राहघिक ने कहा कि एक बेहतरीन प्रतिनिधी बनने के लिए स्वंय के अंदर जानकारी और शोध प्राप्त करने, अपना पक्ष रखने, समझौता करने आदि के गुण विकसित करने चाहिए।

सेवानिवृत्त राजदूत विष्णु प्रकाश ने कहा कि यह कार्यक्रम समकालीन महत्वपूर्ण मुद्दों पर आधारित है। उन्होंने अफगानिस्तान, महामारी और जलवायु परिवर्तन के बाबत कहा कि अफगानिस्तान संकट को नकारा नहीं जा सकता है। वहां पर शासन कर रहे तालिबान के अधिकतर सदस्य संयुक्त राष्ट्र की अंातकवादी की सूची में शामिल हैं। संयुक्त राष्ट्र को वहां के लोगों के लिए भोजन, दवा की उपलब्धता के साथ महिलाओं, बच्चों और अल्पसंख्यकों की सुरक्षा के लिए प्रभावी कदम उठाने चाहिए।

सेवानिवृत्त राजदूत स्कंद रंजन तायल ने छात्रों को भविष्य निर्माण की मजबूत शक्ति बताते हुए कहा कि परिवर्तन आपके द्वारा ही संभव है। सदैव सकारात्मक विचार करे क्योंकि सकरात्मक विचार ही सकारात्मक कार्य को प्रोत्साहित करते हैं।

एमिटी विश्वविद्यालय की वाइस चांसलर डॉ. (श्रीमती) बलविंदर शुक्ला ने अतिथियों और प्रतिभागियों का स्वागत करते हुए कहा कि इस कार्यक्रम का उद्देश्य छात्रों में नेतृत्वता और कूटनीतिक कौशल को विकसित करना है। आपको विभिन्न कमेटियोंं मेे हिस्सा लेकर वर्तमान मुद्दों को समझने, विचार करने, शोध करने और अपनी बात प्रस्तुत करने का मौका मिलेगा जो आपके अंदर नये कौशल को विकसित करेगा।

एमिटी इंटरनेशनल मॉडल यूनाईटेड नेशंस की सेक्रेटरी जनरल शुभांगी ठाकुर ने कार्यक्रम के प्रारंभ की घोषणा की। इस अवसर पर एएमआईएमयूएन 2022 की चेयरपरसन डॉ. निताशा हस्तीर और चेयरपरसन डॉ. अनिल सहरावत आदि उपस्थित थे।