एमिटी में छात्रों को मूल्यों  पर आधारित शिक्षा :  डा. अतुल चौहान
नोएडा। छात्रों को व्यापारिक और शोध के संर्दभ में जानकारी प्रदान करने के लिए एमिटी इंटरनेशनल बिजनेस स्कूल द्वारा स्थायी विश्व स्तरीय संगठन बनाने के लिए व्यक्ति, ध्यये, साझेदारी, ग्रह और प्रदर्शन का पोषण” पर बृहद अंर्तराष्ट्रीय व्यापार और शोध सम्मेलन इनबुश एरा का ऑनलाइन आयोजन किया गया सम्मेलन का शुभारंभ यूके के नार्थम्पटन विश्वविद्यालय के वाइस चासंलर प्रो. निक पेटफोर्ड, यूके के चेलसी फूटबाल क्लब के नवाचार और शोध प्रमुख बेन स्मिथ, डिक्केन विश्वविद्यालय के वाइस चांसलर प्रो इयान मार्टिन, एमिटी विश्वविद्यालय के चांसलर डा. अतुल चौहान और एमिटी गु्रप वाइस चांसलर डा गुरिंदर सिंह द्वारा किया गया। इस अवसर पर अकादमिको को एमिटी ग्लोबल एक्सलेंस अवार्ड से सम्मानित किया गया।
सम्मेलन का शुभारंभ करते हुए प्रो. निक पेटफोर्ड ने कहा कि जब हम संकट का सामना कर रहे हो तो नये अवसरों को खोजना और भी महत्वपूर्ण हो जाता है। कोरोना महामारी के दौरान नई तकनीकें, व्यापारिक अवसर और मेथेडोलॉजी उभरी है। भारत में ईडीटेक के क्षेत्र में प्रभावी विकास हुआ है जो क्रांतिकारी है। प्रो. इयान मार्टिन ने कहा कि महामारी से पूर्व देश अंतर्मुखी थे लेकिन अब हम परिवर्तन देख सकते है वे बाहर की ओर देख रहे है। विश्व के लोग आज डिजिटल माध्यम से जुड रहे है और आज यह विश्व अर्थव्यवस्था विकास के लिए बड़ा वरदान है।
एमिटी विश्वविद्यालय के चांसलर डा. अतुल चौहान ने कहा कि एमिटी में हम छात्रों को मूल्यों आधारित शिक्षण प्रदान करते है। किसी भी संस्थान में बड़ी संख्या में लोग कार्य करते है किंतु उसकी सफलता में उनका महत्व अधिक होता है जो पूरे जूनून से संस्थान के विकास में लगे रहते है। डा. गुरिंदर सिंह ने स्वागत करते हुए कहा कि यह अंर्तराष्ट्रीय सम्मेलन की 22 वर्ष की यात्रा बिना सभी के सहयोग के संभव नही थी। सम्मेलन उद्योग जगत, अकादमिक को शिक्षा के महत्व को बताने के लिए मंच प्रदान कर रहा है।
………………………………………….